शांति की खोज

in #life2 years ago

career-111932_1920.jpgआज हमें भगवान को याद करने -कराने वाले बहानो की ज्यादा जरूरत आन पड़ी है ,कुछ यूँ जैसे जिंदगी की भागदौड़ दवाओं के दम पर चलती ही चली जा रही है पर ये सब कुदरत की व्यवस्था है हमें याद दिलाने को कि हम बीमार हैं और उतना अस्वस्थ हम तन से नहीं हैं जितना अस्वस्थ हम मन से हैं _तन की बीमारी तो हमने accept कर ली पर सब बाहरी और भीतरी समस्याओं की जड़ हमारे मन की स्वास्थ से जुड़ी समस्याएं होती हैं जिन्हे हमें accept करना अभी बाकि है ,आप इसे नजरअंदाज कर सकते हो पर जब तक मन की जरूरतों का ख्याल नहीं रखोगे वास्तव में शांत नहीं हो सकते और संतो का कहना बिल्कुत सत्य है कि 'बिना शांति के हर कमाई बेकार है' ,छोटे छोटे बच्चे भी आज टेंशन की बीमारी से परेशान हैं तो देखा जाये तो कलियुग में ऐसा कोई भी नहीं जो मन की शांति का मूल्य नहीं समझता पर इसे पाने का रास्ता तो वही समझ सकता है जो सत्संग में आकर 'मन को कैसे handle किया जाये' इसे समझने की कोशिश करता है क्योंकि मन supreme tool of the universe है _इससे ताकतवर भी कुछ नहीं that means मन को handle करने की proper ट्रेनिंग लेते रहना जरूरी होता है और भक्तमाल कथा से बेहतर कौन ये सीखा सकता है ?क्यूंकि भगतो ने जिस प्रकार अपने मन को संभाला है हम तो उस परम संतुलन को कल्पना में भी महसूस कर सके तो बड़ी achievement के सामान समझना चाहिए। ..... हम लोग मन से बीमार हैं क्यूंकि प्रभु तो सत्य हैं ही उनकी कल्पनाये तक उन्ही के सामान सच्ची हैं ,कल्पना में भी भगवन को याद नहीं कर पाते,ये मन की कमजोरी का ही symptom नहीं तो क्या है ? _ संतो का सन्देश है कि बहाने बनाकर तुम प्रभु की याद से नहीं बल्कि अपने मन की शांति ,ठंडक और सुकून से ही बचते फिर रहे हो,बल्कि वो बहाने फिर भी सच्चे जो बहाने से प्रभु की याद दिलाते हैं..... शरीर विज्ञान के अंतर्गत यदि जाये तो शरीर का नियम है कि शरीर का तापमान न ज्यादा हो न कम होthermometer-1917500_1920.png _शरीर को आवश्यकता अनुसार ठंडा या गरम रहने की जरूरत महसूस होती है पर देखने वाली बात ये है कि दोनों ही जगह हमें पता चल जाता है _शरीर में गड़बड़ होने पर tempreture check ,symptom examine ,blood test आदि doctor करते हैं तो मन के doctor कौन हैं ?.... सदगुरुदेव भगवान् कृष्ण ही मन के doctor हैं और मन की condition को इस महान डॉक्टर की लिखी हुई एक book के द्वारा समझा जा सकता है जो सिर्फ उन्होंने मन की सरल उपचार विधियों को प्रकाशित करने ही लिखी _वो ग्रन्थ जिसे जिसे हम 'श्रीमद भगवत गीता' और 'श्रीमद भगवत महापुराण' के नाम से जानते हैं..... bhagavad-gita-500x500.png

The English translation of this post by Google translate are below:
Today, we need to remember God-doing excuses, some things like life are running on the strength of medicines, but all this is the arrangement of nature to remind us that we are sick and so much Unhealthy, we are not as tired as we are from our heart, we have accepted the disease, but the root of all external and internal problems are the problems related to the health of our mind which we accept You can ignore it yet, but do not take care of the needs of the mind until it can really be calm and holy
people says it is true that every earning without peace is useless, small children today There is no one in Kaliyug, who does not understand the value of peace of mind, but the way to get it can only understand what happened in Satsang and how to handle the mind. Goes' attempts to understand it because the mind is the supreme tool of the universe- there is nothing more powerful than that. It is necessary to take proper training to handle the mind and who can learn better than the Bhaktakal narrative, because If you can feel that the ultimate equilibrium is also in the imagination, you should understand the kind of big achievement. ..... We are sick with the mind because the Lord is true, his imagination is just as real to him, even in the imagination, cannot remember God, if it is not the symptom of the weakness of the mind then what? It is the message of holy people that by making excuses you are not saved from the remembrance of the Lord but by the peace, calmness, and comfort of your mind, rather the excuses are still true, which reminds the Lord by the excuses ..... If you go under biology then the body's rule is that the temperature of the body is not high or low; the body feels the need to be cold or hot as per requirement, but the point of view is that both of us know the place. Whenever there is a disturbance in the body the doctors check temperature, symptom examines, blood test, etc. who are the doctor of the mind? .... Sadguru Lord Krishna is the doctor of the mind and the condition of mind is written by this great doctor can be understood by the book which is written only to publish simple treatment methods of mind, which is known as 'Shrimad Bhagvat Gita' and 'Shrimad Bhagvat Mahapuraan'.

Sort:  

Congratulations @lifeistoshort! You have completed the following achievement on the Steem blockchain and have been rewarded with new badge(s) :

You got a First Reply

Click on the badge to view your Board of Honor.
If you no longer want to receive notifications, reply to this comment with the word STOP

Do not miss the last post from @steemitboard:

SteemitBoard - Witness Update
SteemFest³ - SteemitBoard support the Travel Reimbursement Fund.

Support SteemitBoard's project! Vote for its witness and get one more award!