shayari #67

in #shayari3 years ago

कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए,
जब भी तेरी याद आई तुझे भुला के रोए,
एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा,
जितना लिख के खुश हुए उस से ज़यादा मिटा के रोए.

@cleverbot | @banjo | @originalworks | @steem-untalented
@curator
@hr1 | @bue | @arama
#introducemyself
#untalented
#creativecomma

upvote , resteem and follow me....

Sort:  

No no no. You lack memory. Really badly. You don't make any sense.