असत्य पैदा करता है अविश्वास (भाग #१) | False Unbelief (Part # 1)

in life •  last month

असत्य पैदा करता है अविश्वास (भाग #१) | False Unbelief (Part # 1)

विचार आदमी को सुलझाते भी हैं और कभी-कभी उलझन में भी डाल देते हैं । प्राचीन साहित्य में लिखे विचार मन में उलझन पैदा कर देते हैं, एक ऊहापोह, एक संदेह पैदा कर देते हैं । मन में प्रश्न उठता है कि ऐसा कैसे लिखा गया ? असत्य के बारे में लिख रहे हैं, क्या उन्होंने स्वयं असत्य नहीं लिखा ? यह बहुत बड़ा चिन्तनीय बिंदु है ।
true.jpg

एक महान आचार्य ने लिखा है –

असत्यमप्रत्ययमूलकारणम्, कुवासनासद्मसमृद्धिवारणम् ।

पहली बात – असत्य अविश्वास का बड़ा मूल कारण है । दूसरी बात – असत्य समृद्धि को रोकता है, आदमी को धनी नहीं होने देता ।

ये दोनों बाते उलझन पैदा कर रही है । क्या असत्य अविश्वास का कारण है या सत्य अविश्वास का कारण बन रहा है ? आज सच कहो तो भी कोई नहीं मानेगा । मन में आशंका होती है कि झूठ बोल रहा है । जैसे आपको भी कई लोगों ने कहा होगा कि जब हम इन्कम टैक्स के लिए सही कागजात पेश करते हैं तो उस पर विश्वास नहीं किया जाता । अधिकारी लोग मानकर चलते हैं कि सच को छिपाया जा रहा है । एक नम्बर के खाते पर भी विश्वास नहीं है ।

सत्य पर विश्वास नहीं है, असत्य पर ज्यादा विश्वास है । इसलिए आदमी असत्य बोलकर काम चलाता है । सत्य पर सहसा विश्वास नहीं होता । एक गरीब आदमी सोने की मोटी चेन पहन ले तो कोई उस पर विश्वास नहीं करेगा । सब यही कहेंगे कि फूटपाथ की किसी दुकान से या मनिहारी की दुकान से खरीदी गई आर्टिफिशियल चेन है । लेकिन अगर कोई बड़ा आदमी नकली ज्वेलरी पहन ले तो कोई उस पर अविश्वास नहीं करेगा । यही समझेंगे कि पुरे चौबीस कैरेट का शुद्ध सोना है ।

सत्य और असत्य की पहचान खो गई है । वह अब बड़े, छोटे व्यक्तित्व के पैमाने से पहचानी जाती है । असत्य अविश्वास पैदा करता है । किन्तु आज की सबसे बड़ी कठिनाई यह है कि सत्य पर आदमी का भरोसा नहीं रहा । लोग यह मानने लगे हैं कि सच बोलूँगा तो मारा जाऊंगा ।

जज ने मुजरिम से पूछा – “तुम्हें पता है झूठ बोलने का अंजाम क्या होगा ?”

अभियुक्त ने कहा – “जानता हूँ हुजूर । झूठ बोलूँगा तो नरक में जाऊंगा ।”

“फिर सत्य का बयान करो ।”

“क्यों ?”

“सच बोलूँगा तो अभी तत्काल जेल जाना पड़ेगा ।” अभियुक्त ने सच्ची बात कह दी ।

सत्य बोलने के खतरे हैं, इसलिए आदमी का सत्य पर से भरोसा ही उठता जा रहा है । झूठ के साम्राज्य में सत्य की हालत बहुत दयनीय है । सत्य की कसौटियां भी बहुत कड़ी हैं । आदमी को कभी-कभी सच बोलने की बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है । फिर असत्य की बुनियाद पर आदमी ने बड़ी तरक्की की है, चाहे वह अल्पकालिक ही क्यों न हो ? दूसरा जब देखता है कि धोखाधड़ी और झूठ-फरेब से दूसरों ने इतनी ज्यादा प्रगति कर ली तो उसे भी असत्य के रास्ते पर चलने की प्रेरणा मिलती है । आदमी सोचता है – क्या मिलेगा सत्यवादी हरिश्चन्द्र बनने से ? जैसे भी हो अपना काम तो निकालना ही है ।

आचार्यों ने लिखा है कि असत्य अविश्वास का कारण है । वर्तमान में हम देख रहे है कि सत्य अविश्वास का कारण बन रहा है । आदमी की मानसिकता में बहुत अन्तर आ गया है । असत्य विश्वास पैदा कर रहा है और सत्य अविश्वास पैदा कर रहा है । यह एक उलझन है ।

दूसरी उलझन यह है कि आदमी असत्य बोलता है, उसका सारा व्यापार और धंधा असत्य पर अवलंबित है तो समृद्धि भी उसके आंगन में दस्तक नहीं देती, यह प्राचीन काल की मान्यता रही है । आज तो यह देखने में आ रहा है कि व्यापार-धन्धे में जो जितनी ज्यादा अप्रमाणिकता करेगा, वह उतना ही ज्यादा समृद्ध होगा । अनेक लोगों से जब यह कहा गया कि जीवन में अणुव्रत को अपनाओ, नैतिक जीवन जीओ तो उत्तर मिला कि उससे क्या मिलेगा ? कुछ भी नहीं । जिन लोगों ने अनैतिकता का आश्रय लिया, उन लोगों ने विशाल कोठियां खड़ी कर लीं, बड़े आदमी बन गए । हम ईमानदारी की माला जपते रहे, नैतिक और प्रामाणिक बने रहे तो आज हालत यह है कि जिन्दगी रोटी की चिन्ता में बीत रही है ।

सत्य पर विश्वास नहीं है । यह मान लिया गया कि झूठ बोलने पर समृद्धि बढ़ती है, सच बोलने पर जहां के तहां रह जाएंगे । फायदा कुछ नहीं, नुकसान की संभावना ज्यादा है ।

The English translation of this post as below by google language tool :

Thoughts also solve the man and sometimes also put in confusion. The ideas written in ancient literature cause confusion in mind, a hypocrisy, a doubt arises. The question arises in the mind how it was written? Writing about the untruth, did they not write themselves false? This is a very worrying point.

A great teacher has written -

Assytam Pratyayamulkaranam, Kuvasnaasamamrudhiwaranam

The first thing - is a big root cause of untrue disbelief. Secondly, falsehood prevents prosperity, does not allow man to be wealthy.

Both of them are creating confusion. Is there a reason for untrue disbelief or a true unbelief? Today, nobody will agree even if it is true. There is a fear in mind that it is lying. Like you too many people would have said that when we present the correct papers for income tax, it is not believed. Officials assume that the truth is being hidden. There is no faith in the account of a number.

There is no faith in the truth, there is much faith in the untruth. That is why a man runs a false thing. Truth is not usually believed If a poor man wore a thick chain of gold, no one will believe in it. All would say that there is an artificial chain purchased from a shop of footpath or from Manihari's shop. But if a big man is wearing a fake jewelery, then nobody will believe in him. It will understand that there is a pure gold of twenty four carats.

The identity of truth and false has been lost. He is now recognized by the scale of large, small personality. Produces false distrust. But today's biggest difficulty is that there is no man's trust in truth. People have started believing that if I speak the truth I will die.

The judge asked the criminal - "You know what will be the consequence of lying?"

The accused said - "I know Hujoor. I will lie and then go to hell. "

"Then make a statement of truth."

"Why?"

"If I tell the truth then I will have to go to jail immediately." The accused told the truth.

There are dangers to speaking the truth, so the trust of man is rising on the truth. The condition of truth is very miserable in the empire of lies. The truths of the truth are also very strict. Sometimes a person has to pay a great price to speak the truth. Then, on the basis of untruth, the man has made great progress, even if it is short-lived? Secondly, when others see that fraud and lies have made so much progress, it also inspires to follow the path of untruth. Man thinks - what will get Satyarthi Harishchandra? Whatever happens is to get rid of your work.

Acharyas have written that there is a reason for untrue disbelief. At present, we are seeing that the truth is becoming the cause of disbelief. There is a lot of difference in man's mindset. Creating false beliefs and creating truth is causing distrust. This is a maze.

The other is the confusion that man speaks untrue, his business and business are dependent on the false, then prosperity also does not knock on his courtyard, it has been the tradition of ancient times. Today it is coming to see that the more authenticity of business, the more rich it will be. When it was said to many people that adopt the atomic energy in life, live a moral life, then the answer is what will get from it? nothing . Those who took shelter of immorality, raised huge chairs, became big men. If we continue to be honest and honest, we are living in the spirit of bread, so today the condition is that life is passing in the breadth of bread.

Do not believe in the truth. It was assumed that prosperity increases on lying, where the truth will remain. The advantage is nothing, the probability of loss is much more.

असत्य और अविश्वास Steeming

Footer mehta.gif

Authors get paid when people like you upvote their post.
If you enjoyed what you read here, create your account today and start earning FREE STEEM!
Sort Order:  

नमस्कार मेहता जी,
सम्भवतया आपके जैसे अनुभवी व्यक्ति ने ये विश्लेषण किया हैं तो ठीक ही होगा। पर माफ़ करना, मैं इससे असहमत हूँ। हम लौकिक जीवन का हिसाब किताब कर पाते हैं, जबकि मानव जीवन लौकिक संसाधनों की प्राप्ति के लिए हैं ही नहीं। पारलौकिक जीवन की समझ ईश्वरीय कृपा से ही सम्भव हो पाती हैं। और ये तभी सम्भव हैं, जब हम परमात्मा के करीब जाने का प्रयास करें।
एक राज की बात जरूर बताना चाहूंगा, सत्य कल्याण का शॉर्टकट हैं। और शॉर्टकट की समस्याएं तो झेलनी पड़ेगी ही। यदि इंसान अपने मार्ग को जान ले, कि वो किस तरफ बढ़ रहा हैं, तो उसको सत्य के मार्ग में आनेवाली बाधाओं को बाधाएं न मानकर उस मार्ग के सामान्य स्टेप मानकर आराम से पार कर लेगा।
इतनी महत्वपूर्ण चर्चा के लिए आपका बहुत बहुत आभार। कभी समय मिले तो मेरे पेज की विजिट कर मार्गदर्शन दीजियेगा।

·

आपकी @indianculture1 उचित समीक्षा के लिए तहे दिल से धन्यवाद.
आपकी जैसी निष्पक्ष वाणी का ही तो इंतजार रहता है, बाकि सभी तो हाँ में हाँ मिलाने में लगे रहते है .

·
·

आपका आभार मेरे विश्लेषण पर बेहतर प्रतिक्रिया के लिए। मै एक बार पुनः निवेदन करना चाहूंगा कि आप जैसा अनुभवी मार्गदर्शक मेरी पोस्ट पर अपनी राय दे। सम्भवतया अपवोट से ज्यादा मार्गदर्शन महत्वपूर्ण होगा मेरे लिए। मेरा निवेदन स्वीकार कीजियेगा।

@mehta
मैरिलन मोनरो उसका असली नाम नहीं था, चार्ल्स मैनसन उसका असली नाम नहीं है, और अब, मैं इसे अपना असली नाम मान रहा हूं।
लेकिन असली क्या है?
आपको सच्चाई नहीं मिल रही है, आप बस झूठ को चुनते हैं जो आपको सबसे अच्छा लगता है।

To listen to the audio version of this article click on the play image.

Brought to you by @tts. If you find it useful please consider upvoting this reply.

Great work brother

Posted using Partiko Android

आपने जो कहा सत्य कहा.परन्तु अस्त्य सत्य के आगे कही नहीं ठहरता.

Posted using Partiko Android

सत्य वह दौलत है जिसे पहले खर्च करो और फिर ज़िन्दगी भर आनंद पाओ

झूठ वह क़र्ज़ है जिससे क्षणिक सुख पाओ पर ज़िन्दगी भर चुकाते रहो

·

वाह @himanshurajoria ji बहुत खूब कहा है आपने. ये बात सभी को समझ में आ जाए तो, मजा ही आ जाए.

You got a 74.32% upvote from @upmewhale courtesy of @mehta!

Earn 100% earning payout by delegating SP to @upmewhale. Visit http://www.upmewhale.com for details!

It is said kaliyuga truth can't be seen. Honest people will suffer, people will take the path of dishonest easily rather the path of honesty. Life depends on how you cheat others -a businessman to success in his business he have to used false over truth and truth over false - brainwashing manipulating are now part of life. Life stands on two-point profit and loss. Even in kurushetra also -sometimes the truth is manipulated and bend.
Nice article by the way.

·

Thanks @crytiblock for such a nice comment and understand the whole matter.

@mehta purchased a 98.08% vote from @promobot on this post.

*If you disagree with the reward or content of this post you can purchase a reversal of this vote by using our curation interface http://promovotes.com

Hi There, Send anywhere between 1 SBD and 10 SBD to @xoxoone9 to get more upvotes and return on investment via getting high visibility to your post with resteem to whales and minnows!

Regards to @Mehta sir!
सत्य परेशान हो सकता है पर पराजित नही।
एक सच को छिपाने के लिए कई झूठ बोलने पड़ते है।मनुष्य अपनी प्रकृति जिस दिशा में विकसित कर लेता है, उसे वही भाग सत्य दिखाई देने गलता है और शेष सब उससे निष्क्रिय,असत्य, मृतप्राय प्रतीत होने लगता है।असत्य को संसार में सभी धर्मों, सम्प्रदायों, समाज प्रणालियों में बुरा माना है ।असत्य का अनुसरण किसी भी हालत में किया जाय, वह सभी प्रकार से अविश्वास और भ्रांतियां पैदा करने वाला है।

·

आपके विचार अति उत्तम है और सत्य भी है । जिसकी जैसी सोच है उसे संसार वैसा ही दिखता है ।

This post has received a 14.18 % upvote from @boomerang.

, I gave you a vote!
If you follow me, I will also follow you in return!
Enjoy some !popcorn courtesy of @amitahl15

कलयुग में झूठा सच लगे और सच लगे है झूठ,
ऐसा समय है आ गया बेटा रहा माँ-बाप से रूठ।
जीना हो रहा दूभर सब पकड़े झूठ डगोरी,
घर से लुक्का चुप्पी करते आजकल के छोरा छोरी।
भाइयों सच की रस्सी पकड़ो, झूठा ज्यादा देर न छाये,
सच्चा चाहे सीधा साधा, सबके मन को भाये।
गर लेना चाहो तरक्की लो बात मेरी भी मान,
झूठ न दिल में रखना कभी, सच्चे की होती ऊँची शान।

·

धन्यवाद @harry4u इतनी सुंदर कविता के लिए.

How do you take upvote so much of your post?

सही बात कही आपने आज के वक़्त में सत्य पर बिस्वास नही है किसी को लेकिन असत्य पर बिस्वास सभी को

·

क्या कहे कलयुग है, सब उल्टा ही हो रहा है.

·
·

जी सही कहा आपने

·

वक़्त की लाठी में आवाज नही होती लेकिन असर बहुत ज्यादा होता है, ठीक उसी तरह असत्य को सत्य पर ज्यादा समय के लिए थोपा नही जा सकता।
सत्य अपना असर जरूर दिखाता है।

·
·

आपका कहना सत्य है क्योकि असत्य पर हमेसा सत्य की विजय होती है.

आज के युग में चारो तरफ असत्य इतना फेल गया हे की हर किसी को ये लगने लगा हे की सामने वाला इंसान असत्य बोल रहा हे कियो की वह स्वयं एसा ही करता हे कियोकि कहा जाता हे की आप जेसे हो आपको सारा संसार वेसा ही लगता हे
लेकिन असत्य के सहारे कोई जियादा दूर तक नहीं जा सकता उसका जुट एक न एक दिन बहार जरुर आएगा
और हमे हमेसा सत्य के मार्ग पर ही चलना हे तभी जीवन का सही मायिने में सफल हे

जीवन में चाहे कितनी भी परेशानियाँ आये, सत्य का साथ कभी भी नहीं छोड़ना चाहिये

·

बहुत ही उत्तम विचार है.
तो फिर आप अपने आप को मजबूत करके रखिये, क्योंकि आप सत्य बोलने वाले हैं.

chahe koi v yug ho satya me hazaar hathiyo ka baal hai asa kaha gya hai, ek jhoota v hmesa sacha sathi chahta hai,islia aaj v satya ka baht value hai

Hi,
False statement can give us immediate relief or success. But in longer run we have to pay the price.
One day the real truth will come and we have to pay much more than today.
At least we should avoid such situation where we have to say false.
Because we all know that “ALL DAYS ARE NOT SAME.”
Thanks again for posting such interesting topic other then you usual ones. And allowing us to discuss on this topic.
Please do post such good articals again and again
Thanks

Speaking truth gives confidence to a man, self-respect and strengthen him.A lie that saved someone's life is also true from truth. Humans should always speak try to truth but they also depend on some situations

सत्य बोलना आदमी को आत्मविश्वास दिलाता है आत्मसम्मान दिलाता है और उसे मजबूत बनाता है. ऐसा झूठ जो किसी की जान बचाई वो Satya से भी सही है

Warrior-like warrior who is well known within India also once lied to the situationयुधिष्ठर जैसा योद्धा जो कि भारत के अंदर विख्यात है उन्होंने भी पर स्थिति में आकर एक बार झूठ बोला था. But when the children of Pandavas died, then the Yudhisthira felt that the lie told by them is the cause of this thing. लेकिन जब पांडवों के बच्चों की मौत हुई तो ये युधिष्ठिर को लगा कि उनके द्वारा बोला गया झूठ इस चीज का कारण बना है. But ironically, all this is done by Lord Krishna's wish लेकिन विडम्बना देखिए यह सब भगवान कृष्ण की मर्जी से हुआ है

आपके विचार अद्दभूत है. हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधीने सत्य की राह पर चलकर देश को आजादी दिलाइ. सत्य में बहुत ताकत है. विडंबना ये है की सत्य की राह पर चलने वाले को तकलीफें बहूत आती है. विश्वास डगमगां जाता है. मन विचलित होने लगता है. लेकिन अगर इन्सान अटल रहे, धैर्य के साथ आगे बढता रहे, एक लक्ष्य बनाकर चले तो मंजिल मिलना तय है ईसमें कोई दो राय नहि. हमारें अन्ना हजारेजीने पण सत्य का सहारा लिया और लोगों में विश्वास का माहोल खडा किया. भारत के एक उज्जवल भविष्य का रास्ता दिखाया. एसी कई प्रतिभाए भारत में है जिन्होनें सिर्फ सत्य को ही अपना साथीदार बनाया.

हिन्दी एक एसी भाषा हे जो पढनें में अपनापन लगता है. यहां पर हिन्दी भाषा का बहुत कम इस्तमाल होता है. लेकिन आपका ये आर्टीकल सराहनिय है. आपसे निवेदन है कि बस एैसे ही आर्टीकल लिखते रहै. बहुत बहुत धन्यवाद.

@printskill

·

@printskill आपके प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद.
इसमें कोई भी शक या शुमार नहीं है कि सत्य अजेय, अमर और बहुत ही ताकतवर है. आजकल इसकी राह पर चलने वालों के रास्ते में बहुत कठिनाइयाँ आती है. परन्तु हमें इसका दामन कभी भी नहीं छोड़ना चाहिए.

‌‌‌सत्य विचार बहुत कम मिलते है।

Congratulations @mehta!
Your post was mentioned in the Steemit Hit Parade in the following category:

  • Pending payout - Ranked 9 with $ 165,58

Your brains might be befuddled, however your feelings will never deceive you.

सत्य और असत्य तो हमारी माया और मान्यता से ही खड़ा होता है, और वह एक सापेक्ष संकल्पना ही है, जिसका कोई आधार नहीं होता सत्य और असत्य के गुढ़ रहस्यों को जाने और समझे मेहता जी अच्छी पोस्ट है, आपकी
I am new seemit me plz up vote mi

आज के समय में इंसान की फितरत हो गई है, असत्य को आसानी से मान लेता है , लेकिन सत्य के लिए प्रतीक्षा करता है।
इसी लिए तो यह बात सार्थक होती है, सत्य परेशान हो सकता है किंतु पराजित नहीं।
धन्यवाद

follow me

Hi @mehta!

Your post was upvoted by @steem-ua, new Steem dApp, using UserAuthority for algorithmic post curation!
Your UA account score is currently 2.974 which ranks you at #10335 across all Steem accounts.
Your rank has improved 1 places in the last three days (old rank 10336).

In our last Algorithmic Curation Round, consisting of 487 contributions, your post is ranked at #258.

Evaluation of your UA score:
  • Only a few people are following you, try to convince more people with good work.
  • The readers appreciate your great work!
  • Try to work on user engagement: the more people that interact with you via the comments, the higher your UA score!

Feel free to join our @steem-ua Discord server

This user is on the @buildawhale blacklist for one or more of the following reasons:

  • Spam
  • Plagiarism
  • Scam or Fraud