Glorification of Shraddha .

in #blog4 years ago

IMG_20181008_173241.jpg

A very aromatic floral in Hinduism is the feeling of gratitude, which is clearly reflected in the child towards his parents. A person of Hindu religion does his duty to serve his own living parents, after his death, makes his sense of well-being and tries to fulfill his incomplete actions. 'Shraddha-ritual' is based on this sentiment.

After death, the soul gets place in hell as per the best, medium and junior karmas. When sin and virtue become impaired, it comes back to the corpse (earth). It is a father's path to go to heaven and being free from the bondage of birth and death is the Devan path.

The organisms going through the paternal pathway pass through the paprilok and go to the moonlight. In the Chandlok, eat Amritnna and eat it. This amritnna Krishna becomes weak with the arts of the moon in the side. Therefore, in the Krishna party, the descendants should provide food for them, that is why Shraddha and Pandhan have been arranged. It is in the scriptures that on the eve of Amavasya, one must have a patrilation.

Supporters of modern ideology and atheism can doubt that: "How can the grain donated here reach the ancestors?"

IMG_20181008_173230.jpg

India's currency 'rupee' can be found in the US by 'dollar' and 'pound' in London and the US dollar can be found in Japan in Yen and Dubai. If the non-human governments of this world can thus transform the currencies, then the Almighty Government of God can give you the offerings made in Shraddas worthy of the ancestors, and what is the wonder in this?

Suppose, your ancestors are not in the patrilok but in the form of an inferior man. If you do Shraddha for them, then on the strength of Shraddha they will have some benefit in that day, wherever they are. I have seen this experience. My father is still in the human vagina. Here, I make their prayers, that day they have some or nothing special advantage.

Suppose your father has become free, then where will the Shraddha for them go? For example, if you send Money order to someone, that person has left the house or office, then the money order is given back to you, as well as the donation made for the cause of Shraddha will give special benefit to you.

Telescopes and Doordarshan etc. distribute the distance of thousands of kilometers, it is direct. Mantras also have much effect from these instruments.

The life of the devotees of Goddess and Pitholok is more than thousands of years of human life. He should take advantage of his father and patrilok and should take advantage of him and make Shraddha.

Lord Shreemachandraji also used to practice Shraddha. Shri Ekanad ji Maharaj became the great enlightened saint of Paithan The cynical Brahmins of Paithan had ousted Eknathji from the caste and boycotted his religious rituals. Those yogic Eknathji called the Brahmins and their patrilokas inhabitant and provided food. By seeing this, the Brahmins of Paithan were amazed and apologized for their crimes.

On each person's head, there is a deity, a patriot and a sage. Relieves from the patriotism by shraadhyakriya. On offering the sacrifices to the deities, the deity is liberated. Rishi-Muni-Saints get rid of the rishis from taking pride in their lives, by promoting them, and respecting their goals and respecting them.

In the Puranas it is said that Ashwin (Bhadrapada according to Gujarat-Maharashtra) is the combination of Sun and Moon on the day of Amavas (Paternal Amavas) of Krishna Paksha. Sun enters Virgo zodiac. On this day, our ancestors leave their habitat from Yamalok and live in the place of their descendants, in the subtle form of death. Therefore, they are satisfied by doing different Shraddha for them on that day.

All Content translate in google translater

श्राद्ध महिमा
हिन्दू धर्म में एक अत्यंत सुरभित पुष्प है कृतज्ञता की भावना, जो कि बालक में अपने माता-पिता के प्रति स्पष्ट परिलक्षित होती है। हिन्दू धर्म का व्यक्ति अपने जीवित माता-पिता की सेवा तो करता ही है, उनके देहावसान के बाद भी उनके कल्याण की भावना करता है एवं उनके अधूरे शुभ कार्यों को पूर्ण करने का प्रयत्न करता है। 'श्राद्ध-विधि' इसी भावना पर आधारित है।
मृत्यु के बाद जीवात्मा को उत्तम, मध्यम एवं कनिष्ठ कर्मानुसार स्वर्ग नरक में स्थान मिलता है। पाप-पुण्य क्षीण होने पर वह पुनः मृत्युलोक (पृथ्वी) में आता है। स्वर्ग में जाना यह पितृयान मार्ग है एवं जन्म-मरण के बन्धन से मुक्त होना यह देवयान मार्ग है।
पितृयान मार्ग से जाने वाले जीव पितृलोक से होकर चन्द्रलोक में जाते हैं। चंद्रलोक में अमृतान्न का सेवन करके निर्वाह करते हैं। यह अमृतान्न कृष्ण पक्ष में चंद्र की कलाओं के साथ क्षीण होता रहता है। अतः कृष्ण पक्ष में वंशजों को उनके लिए आहार पहुँचाना चाहिए, इसीलिए श्राद्ध एवं पिण्डदान की व्यवस्था की गयी है। शास्त्रों में आता है कि अमावस के दिन तो पितृतर्पण अवश्य करना चाहिए।
आधुनिक विचारधारा एवं नास्तिकता के समर्थक शंका कर सकते हैं किः "यहाँ दान किया गया अन्न पितरों तक कैसे पहुँच सकता है?"
भारत की मुद्रा 'रुपया' अमेरिका में 'डॉलर' एवं लंदन में 'पाउण्ड' होकर मिल सकती है एवं अमेरिका के डॉलर जापान में येन एवं दुबई में दीनार होकर मिल सकते हैं। यदि इस विश्व की नन्हीं सी मानव रचित सरकारें इस प्रकार मुद्राओं का रुपान्तरण कर सकती हैं तो ईश्वर की सर्वसमर्थ सरकार आपके द्वारा श्राद्ध में अर्पित वस्तुओं को पितरों के योग्य करके उन तक पहुँचा दे, इसमें क्या आश्चर्य है?
मान लो, आपके पूर्वज अभी पितृलोक में नहीं, अपित मनुष्य रूप में हैं। आप उनके लिए श्राद्ध करते हो तो श्राद्ध के बल पर उस दिन वे जहाँ होंगे वहाँ उन्हें कुछ न कुछ लाभ होगा। मैंने इस बात का अनुभव करके देखा है। मेरे पिता अभी मनुष्य योनि में हैं। यहाँ मैं उनका श्राद्ध करता हूँ उस दिन उन्हें कुछ न कुछ विशेष लाभ अवश्य हो जाता है।
मान लो, आपके पिता की मुक्ति हो गयी हो तो उनके लिए किया गया श्राद्ध कहाँ जाएगा? जैसे, आप किसी को मनीआर्डर भेजते हो, वह व्यक्ति मकान या आफिस खाली करके चला गया हो तो वह मनीआर्डर आप ही को वापस मिलता है, वैसे ही श्राद्ध के निमित्त से किया गया दान आप ही को विशेष लाभ देगा।
दूरभाष और दूरदर्शन आदि यंत्र हजारों किलोमीटर का अंतराल दूर करते हैं, यह प्रत्यक्ष है। इन यंत्रों से भी मंत्रों का प्रभाव बहुत ज्यादा होता है।
देवलोक एवं पितृलोक के वासियों का आयुष्य मानवीय आयुष्य से हजारों वर्ष ज्यादा होता है। इससे पितर एवं पितृलोक को मानकर उनका लाभ उठाना चाहिए तथा श्राद्ध करना चाहिए।
भगवान श्रीरामचन्द्रजी भी श्राद्ध करते थे। पैठण के महान आत्मज्ञानी संत हो गये श्री एकनाथ जी महाराज। पैठण के निंदक ब्राह्मणों ने एकनाथ जी को जाति से बाहर कर दिया था एवं उनके श्राद्ध-भोज का बहिष्कार किया था। उन योगसंपन्न एकनाथ जी ने ब्राह्मणों के एवं अपने पितृलोक वासी पितरों को बुलाकर भोजन कराया। यह देखकर पैठण के ब्राह्मण चकित रह गये एवं उनसे अपने अपराधों के लिए क्षमायाचना की।
जिन्होंने हमें पाला-पोसा, बड़ा किया, पढ़ाया-लिखाया, हममें भक्ति, ज्ञान एवं धर्म के संस्कारों का सिंचन किया उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करके उन्हें तर्पण-श्राद्ध से प्रसन्न करने के दिन ही हैं श्राद्धपक्ष। श्राद्धपक्ष आश्विन के (गुजरात-महाराष्ट्र में भाद्रपद के) कृष्ण पक्ष में की गयी श्राद्ध-विधि गया क्षेत्र में की गयी श्राद्ध-विधी के बराबर मानी जाती है। इस विधि में मृतात्मा की पूजा एवं उनकी इच्छा-तृप्ति का सिद्धान्त समाहित होता है।
प्रत्येक व्यक्ति के सिर पर देवऋण, पितृऋण एवं ऋषिऋण रहता है। श्राद्धक्रिया द्वारा पितृऋण से मुक्त हुआ जाता है। देवताओं को यज्ञ-भाग देने पर देवऋण से मुक्त हुआ जाता है। ऋषि-मुनि-संतों के विचारों को आदर्शों को अपने जीवन में उतारने से, उनका प्रचार-प्रसार करने से एवं उन्हे लक्ष्य मानकर आदरसहित आचरण करने से ऋषिऋण से मुक्त हुआ जाता है।
पुराणों में आता है कि आश्विन(गुजरात-महाराष्ट्र के मुताबिक भाद्रपद) कृष्ण पक्ष की अमावस (पितृमोक्ष अमावस) के दिन सूर्य एवं चन्द्र की युति होती है। सूर्य कन्या राशि में प्रवेश करता है। इस दिन हमारे पितर यमलोक से अपना निवास छोड़कर सूक्ष्म रूप से मृत्युलोक में अपने वंशजों के निवास स्थान में रहते हैं। अतः उस दिन उनके लिए विभिन्न श्राद्ध करने से वे तृप्त होते हैं।

36570776_2077283845863880_8197722258748211200_n.png

Sort:  

You got voted by @curationkiwi thanks to Soni799! This bot is managed by Kiwibot and run by Rishi556, you can check both of them out there. To receive maximum rewards, you must be a member of KiwiBot. To receive free upvotes for yourself (even if you are not a member) you can join the KiwiBot Discord linked here and use the command !upvote (post name) in #curationkiwi.

Congratulations! This post has been upvoted from the communal account, @minnowsupport, by Soni799 from the Minnow Support Project. It's a witness project run by aggroed, ausbitbank, teamsteem, someguy123, neoxian, followbtcnews, and netuoso. The goal is to help Steemit grow by supporting Minnows. Please find us at the Peace, Abundance, and Liberty Network (PALnet) Discord Channel. It's a completely public and open space to all members of the Steemit community who voluntarily choose to be there.

If you would like to delegate to the Minnow Support Project you can do so by clicking on the following links: 50SP, 100SP, 250SP, 500SP, 1000SP, 5000SP.
Be sure to leave at least 50SP undelegated on your account.

Coin Marketplace

STEEM 0.22
TRX 0.06
JST 0.025
BTC 19406.02
ETH 1318.25
USDT 1.00
SBD 2.43